Sunil Gavaskar Birthday: खराब पिच पर बाएं हाथ से की बल्लेबाजी, कभी शरीर पर नहीं लगी गेंद, गावस्कर की 10 बड़ी बातें जिन्हें जानकर चौंक जाएंगे

Sunil Gavaskar

सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) का नाम भारतीय क्रिकेट के इतिहास में अहम जगह रखता है. ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि उनके नाम कई रिकॉर्ड्स हैं बल्कि ऐसा इसलिए क्योंकि वह पहले ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने विदेशी जमीन पर भारत के नाम डंका बजाया और एक पूरी पीढ़ी को क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया जिसमें सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) भी शामिल थे. आज यानि नौ जुलाई को यह दिग्गज खिलाड़ी अपना 73वां जन्मदिन मना रहे हैं. गावस्कर अपने बेखौफ अंदाज, सही के लिए खड़े होने की हिम्मत और गलत चीज का खुले आम विरोध करने के लिए भी जाने जाते थे. आज जानिए उनके बारे में 10 दिलचस्प बातें.

गावस्कर के जीवन के रोमांचक बातें

  1. साल 1987 में सुनील गावस्कर ने अपना रिटायरमेंट का ऐलान किया था. उस समय उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 10,122 रन बनाए थे. उस क्रिकेट में 10 हजार रन की अहमियत वही जोकि 10 सेकंड में 100 मीटर दौड़ने वाले एथलीट की होती थी.

2) सुनील गावस्कर के पास विरोध जताने के अपने तरीके थे. एक फर्स्ट क्लास मैच में वह पिच से इतने निराश थे कि पूरे मुकाबले में उन्होंने बाएं हाथ से बल्लेबाजी की. इसके बावजूद कोई गेंदबाज उन्हें आउट नहीं कर सका.

3) अपने पूरे करियर में सुनील गावस्कर ने ज्यादातर समय बिना हेलमेट पहने बल्लेबाजी की. सामने चाहे जितना ही खतरनाक गेंदबाज हो वह उसी अंदाज में बल्लेबाजी करते थे. उनकी टेक्नीक ऐसी थी कि उन्होंने कभी शरीर पर गेंद नहीं खाई.

4) सुनील गावस्कर को स्लेजिंग करना पसंद नहीं था. वह ऐसा करते भी नहीं थे. यही कारण है कि कोई विरोधी खिलाड़ी भी उन्हे स्लेज नहीं किया करता था. ऐसा माना जाता था कि स्लेजिंग से गावस्कर और फोकस होकर खेलने लगते थे.

6) पाकिस्तान के वर्ल्ड चैंपियन कप्तान और पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुलासा किया था कि उनके लिए सुनील गावस्कर को आउट करना काफी मुश्किल होता था. वहीं टीम इंडिया के पूर्व कप्तान बिशन बेदी ने माना था कि उन्हें अगर कोई टेस्ट बचाना हो तो गावस्कर उनकी पहली पसंद होंगे.

7) गावस्कर ने साल 1971 में वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में टेस्ट डेब्यू किया था. 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में गावस्कर ने 774 रन बनाए, इस दौरान उन्होंने 4 शतक और 3 अर्धशतक जमाए. . डेब्यू टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड गावस्कर के नाम है जो आजतक नहीं टूटा है.

8) गावस्कर क्रिकेट के अलावा एक्टिंग में भी जलवा दिखा चुके हैं. उन्होंने मराठी फिल्म सावली प्रेमाची और हिंदी फिल्म मालामाल में एक्टिंग की है.

9) गावस्कर बचपन में एक रेसलर बनना चाहते थे. वो महान पहलवान मारुति वदर के बहुत बड़े फैन थे. क्रिकेट की प्रति उनकी रुचि अपने मामा माधव मंत्री को खेलता देखने के बाद बढ़ी और फिर इसी खेल को अपनी दुनिया बना लिया.

10) गावस्कर ने टेस्ट क्रिकेट में 51.12 की स्ट्राइक रेट से 10122 रन बनाए बनाए हैं जिसमें 34 शतक और 45 अर्धशतक शामिल हैं. वहीं वन डे क्रिकेट में 35.13 की स्ट्राइक रेट से 3092 रन बनाए हैं, इसमें एकमात्र शतक और 27 अर्शतक शामिल हैं.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.