Rosacea: बरसात के मौसम में हो गया है स्किन इंफेक्शन? ये है इसका आयुर्वेदिक उपचार

Skin Problems

दिल्ली में पिछले कुछ समय से मौसम में नमी 60 प्रतिशत से भी अधिक बताई जा रही है. कई दिनों की भीषण गर्मी के बाद राजधानी में पिछले हफ्ते (30 जून) को बरसात हुई. दक्षिण-पश्चिम मानसून (Monsoon) के आने के साथ ही 30 जून को दिल्ली-एनसीआर का सबसे ज्यादा नमी वाला दिन भी माना गया था. विशेषज्ञ बताते हैं कि मौसम में आने वाले ऐसे बदलाव से स्किन संबंधी परेशानियां (Skin Problems) हो सकती हैं. और रोसैशिया (Rosacea) जैसी समस्याएं भी बढ़ जाती हैं. रोसैशिया का प्रभाव सबसे ज्यादा गाल, माथे और ठोड़ी पर नजर आता है. रोसैशिया के उभर आने की वजह अभी पता नहीं चल पाई है लेकिन माना जाता है कि यह जरूरत से ज्यादा एक्टिव इम्यून सिस्टम की वजह से हो सकता है.

रोसैशिया को अक्सर लोग मुंहासे, त्वचा संबंधित कोई और समस्या या फिर त्वचा के रूखेपन से जोड़ कर देखते हैं. लेकिन अगर रोसैशिया का समय पर इलाज नहीं किया गया तो त्वचा पर उभरने वाली लालिमा और सूजन बिगड़ कर स्थायी भी हो सकती है.

हॉर्मोनल बदलाव से होता है इंफेक्शन

आयुर्वेद के एक वरिष्ठ सलाहकार और मेदांता में एकीकृत चिकित्सा विभाग के प्रमुख डॉ. जी. गीता कृष्णन ने Tv9 को बताया कि रोसैशिया शरीर में हॉर्मोनल बदलाव का इशारा भी हो सकता है, जिससे बॉडी में मेटाबॉलिज्म या हीट बढ़ती है. उन्होंने बताया कि आयुर्वेद के अनुसार, यह एक ‘पित्त’ आधारित स्थिति है जो पित्त प्रकृति वाले व्यक्तियों में होती है या फिर पित्त को बढ़ाने वाली स्थितियों में उभरती है.

पित्त दोष को आयुर्वेद में अग्नि और जल पर आधारित माना गया है. इस प्रवृति को आमतौर पर गर्म, हल्की, तेज, तैलीय, तरल और स्थिर न रहने वाली के रूप में वर्णित किया जाता है. देखने में आया है कि पित्त प्रवृति वाले लोग अक्सर गठे हुए बदन के होते हैं और उनका शरीर खिलाड़ियों की तरह दिखता है.

क्या है आयुर्वेदिक उपचार

डॉ. कृष्णन ने बताया कि रोसैशिया होने पर अंजीर, करी पत्ते वाली छाछ आदि का सेवन करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि रोसैशिया होने पर प्रभावित जगहों की सफाई पर खास ध्यान देना चाहिए और गुलाब जल लगाना चाहिए. इससे जल्दी आराम मिलता है. साथ ही मसालेदार और खमीर वाली चीजों को खाने से बचना चाहिए. मछली और तिल का भी परहेज इस स्थिति में करना बेहतर रहता है.

साथ ही डॉ. कृष्णन ने रोसैशिया से परेशान लोगों को रात में अच्छी नींद लेने और सांस से जुड़े व्यायाम जैसे कि अनुलोम विलोम करने की भी सलाह दी है.

इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.