Rishi Sunak: कौन हैं ब्रिटेन के वित्त मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले ऋषि सुनक और क्या है उनका नारायण मूर्ति से कनेक्शन?

Who Is Rishi Sunak Britain Finance Minister

Britain Finance Minister Rishi Sunak Resigned: ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक (Rishi Sunak) ने बोरिस जॉनसन सरकार से इस्तीफा दे दिया है. उनके अलावा हेल्थ सेक्रेटरी साजिद जावेद ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. ऋषि सुनक ने ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन (Britain PM Boris Johnson) को चिट्ठी लिखकर अपना इस्तीफा दिया है, जिसमें उन्होंने जॉनसन के काम करने के तरीके पर सवाल भी उठाए हैं. ऋषि सुनक ने ट्विटर पर अपने इस्तीफे की बात करते हुए बोरिस जॉनसन के नाम पत्र लिखा है. उनकी पत्नी अक्षता मूर्ति पर सरकार को टैक्स न देने के आरोप लगाए गए थे.

इसको लेकर ऋषि सुनक को घेरा जा रहा था कि रूस में इन्फोसिस कंपनी को हो रही कमाई में हिस्सेदार होने के बावजूद अक्षता ब्रिटेन में टैक्स नहीं दे रही हैं. वहीं ऋषि सुनक स्पष्ट कर चुके थे कि परिवार की आर्थिक स्थिति को लेकर उन्होंने मंत्री पद के नियमों का पालन किया है या नहीं, इसका रिव्यू कराया जा सकता है.

बहरहाल, बोरिस सरकार के काम करने के तरीके से असंतुष्ट होकर उन्होंने वित्त मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. हममें से कई लोग यह जानते होंगे कि ऋषि सुनक का भारत से गहरा नाता है. इन्फोसिस के संस्थापक भारतीय बिजनेस टाइकून नारायण मूर्ति से उनका कनेक्शन है. आइए जानते हैं उनके बारे में विस्तार से.

कौन हैं ऋषि सुनक?

ऋषि सुनक भारतीय मूल के ब्रिटिश राजनेता हैं. वे साउथेम्प्टन में पूर्वी अफ्रीका से आए भारतीय माता-पिता के संतान हैं. 12 मई 1980 को जन्मे ऋषि सुनक ब्रिटेन में कंजर्वेटिव पार्टी के मेंबर हैं, जिनकी गिनती ​ब्रिटेन के बड़े राजनेताओं में होती है. फरवरी 2020 में उन्होंने वित्तमंत्री का कार्यभार संभाला था. इससे पहले 2019 से 2020 तक उन्होंने ट्रेजरी के मुख्य सचिव के रूप में भी काम किया है. ऋषि सुनक 2015 से उत्तरी यॉर्कशायर में रिचमंड (यॉर्क) सीट से संसद सदस्य हैं.

ऋषि सुनक बचपन से ही मेधावी रहे हैं. उनकी पढ़ाई-लिखाई विनचेस्टर कॉलेज से हुई और फिर बाद में उन्होंने लिंकन कॉलेज, ऑक्सफोर्ड में दर्शनशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र की पढ़ाई की. इतना ही नहीं, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से उन्होंने फुलब्राइट स्कॉलर के रूप में एमबीए किया है.

नारायणमूर्ति के दामाद हैं ऋषि

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान ही ऋषि सुनक की मुलाकात इन्फोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी अक्षता मूर्ति से हुई थी. वहां दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया. बाद में उनकी शादी अक्षता मूर्ति के साथ हो गई और इस तरह ऋषि सुनक, भारतीय बिजनेसमैन नारायण मूर्ति के दामाद बन गए. पढ़ाई पूरी करने के बाद ऋषि सुनक ने कई कंपनियों में काम भी किया है और फिरद चिल्ड्रन इन्वेस्टमेंट फंड मैनेजमेंट और थेलेम पार्टनर्स में पार्टनर रहे. इसके बाद उन्होंने मजबूती के साथ ब्रिटेन की राजनीति में कदम रखा.

प्रधानमंत्री पद के थे दावेदार

ऋषि सुनक की उम्र अभी सिर्फ 41 साल है. वह ब्रिटेन में काफी लोकप्रिय और मशहूर हैं. वर्ष 2017 से ही वे श्रीमद्भागवत गीता पर हाथ रखकर अपने पद की शपथ लेते रहे हैं. उनके पूर्वज पहले भारत से ईस्ट अफ्रीका गए थे और फिर वहां से ​ब्रिटेन आकर बस गए. आम लोगों के बीच ऋषि खूब पसंद किए जाते हैं और उनके काम की अक्सर तारीफ होती है. 2020 में ब्रिटेन की एक प्राइवेट कंपनी ने सर्वे करवाया था, जिसमें वहां के 60 फीसदी लोगों ने ऋषि सुनक को प्रधानमंत्री पद के लिए अपना पसंदीदा उम्मीदवार बताया था.

बतौर चांसलर ऋषि सुनक ने कोविड महामारी के कारण लड़खड़ाई आर्थिक स्थिति के समाधान के लिए सरकार की आर्थिक प्रतिक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. ब्रिटेन में लॉकडाउन लगाकर खुद शराब पार्टी करने में व्यस्त होने वाले पीएम बोरिस जॉनसन की खूब आलोचना हुई और उनके इस्तीफे की मांग की उठने लगी. ऐसे में माना जाने लगा था कि बोरिस जॉनसन के इस्तीफे के साथ ही ऋषि सुनक ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री बन सकते हैं. हालांकि ऐसा हो नहीं पाया.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.