Rajasthan: 10वीं क्लास की छात्रा से गैंगरेप, अगवा कर ले गये जयपुर, नशे का इंजेक्शन लगाकर किया कुकर्म; वीडियो भी बनाया

Pali Crime

राजस्थान (Rajasthan) के पाली जिले के देसूरी उपखंड क्षेत्र के सादड़ी थाना क्षेत्र में 10वीं क्लास की छात्रा से गैंगरेप (Gang Rape) का मामला सामने आया है. यहां 8 लड़कों पर नशे का इंजेक्शन लगाकर रेप करने का आरोप है. आरोपियों ने अश्लील फोटो-वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड करने और परिवार को जान से मारने की धमकी देकर बार-बार छात्रा को हवस का शिकार बनाया. इतना ही नहीं चार लड़कों ने उसका अपहरण कर जयपुर ले जाकर भी रेप किया. इसके बाद जयपुर (Jaipur Police) से FIR सादड़ी थाने आई है. सीओ बाली अचल सिंह देवड़ा मामले की जांच में जुटे हैं.

पाली SP डॉ. गगनदीप सिंगला ने बताया कि 17 साल की पीड़िता ने FIR में सादड़ी निवासी रणजीत सिंह, प्रताप मीणा, बिल्ला चौधरी, अजय उर्फ पंकज चौधरी, भरत, कपिल, कमलेश, पीयूष पर नशे का इंजेक्शन लगाकर गैंगरेप करने का आरोप लगाया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

खेत में अकेला देखकर किया रेप

पीड़िता ने बताया कि 8 फरवरी 2021 को खेत में अकेली थी. इस दौरान सादड़ी का रहने वाला रणजीत सिंह, प्रताप मीणा, बिल्ला चौधरी, पंकज चौधरी, भरत, कपिल, कमलेश, पीयूष आए. आठों लड़कों ने जबरदस्ती नशे का इंजेक्शन लगाकर उसके साथ गैंगरेप किया. रेप कर अश्लील फोटो-वीडियो बना लिए. रणजीत सिंह और प्रताप मीणा ने किसी को कुछ बताने पर जान से मारने और वीडियो वायरल कर बदनाम करने की धमकी दी. डर के कारण उसने घर में कुछ नहीं बताया.

4 मई को जयपुर ले जाकर किया रेप

पीड़िता ने बताया कि 4 मई 2022 को बाजार से रणजीत सिंह, प्रताप मीणा, बिल्ला चौधरी, पंकज चौधरी उसका किडनेप कर गाड़ी में डालकर जयपुर ले गए. यहां रस्सी से बांधकर उसको नशे का इंजेक्शन लगा दिया. इसके बाद जयपुर में अलग-अलग जगह ले जाकर चारों ने रेप किया. वहीं 5 मई 2022 को वापस गांव छोड़ दिया. आरोपियों ने फिर किसी को कुछ बताने पर परिवार को जान से मारने की धमकी दी.

जयपुर में दर्ज हुआ मुकदमा

पीड़िता ने बताया कि आरोपियों की धमकियों से परेशान होकर पिता को सारी घटना बताई. इसके बाद जब वो मामला दर्ज करवाने सादड़ी थाने पहुंचे तो पुलिस ने जयपुर की घटना बताकर वहां रिपोर्ट दर्ज करवाने को कहा. इसके बाद भांकरोटा जयपुर शहर (पश्चिम) थाने में मामला दर्ज करवाया गया.

पीड़िता को परिजनों को सौंपा

पुलिस ने पीड़िता को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया. समिति अध्यक्ष सीताराम शर्मा ने बताया कि पीड़िता का बयान लेने के बाद उसकी इच्छानुसार उसे परिजनों को सौंपा गया है. महिला सपोर्ट और विधिक सहायता के लिए वकील की नियुक्ति के आदेश जारी किए गए हैं. साथ ही पीड़िता के इलाज के लिए डिप्टी CMHO को निर्देशित किया गया है.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.