Madhya Pradesh: नेता प्रतिपक्ष डॉ.गोविंद सिंह ने चुनाव आयुक्त को लिखी चिट्ठी, भिंड जिले में हुए पंचायत चुनाव की वोटिंग में जताई धांधली की आशंका

Dr Govind Singh

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ.गोविंद सिंह ने राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त को पत्र लिखा है. राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त बीपी सिंह को पत्र में लिखा है कि भिंड जिले में हुए पंचायत चुनाव की मतगणना में धांधली की आशंका जाहिर की है. वहीं, डॉक्टर गोविंद सिंह (Dr Govind Singh) ने चिट्ठी में लिखा है कि भिंड जिले में पंचायत चुनाव के दोनों चरणों की मतगणना के बाद अधिकारियों द्वारा किस मतदान केंद्र पर उम्मीदवार को कितने मत प्राप्त हुए, इसकी जानकारी नहीं दी जा रही. वहीं कंप्यूटर में फीडिंग करते समय प्रत्याशियों के प्राप्त मतों को बदला जा रहा है.

दरअसल, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ.गोविंद सिंह ने राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त को लिखे पत्र में कहा है कि जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशियों को ज्यादा वोट मिलने के बाद भी कंप्यूटर में कम दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में मतगणना की लिखित जानकारी उम्मीदवार को ना देना संदेह पैदा करता है. इस दौरान डॉ गोविंद सिंह ने आरोप लगाया कि अधिकारियों पर राजनीतिक दबाव डालकर परिणाम बदले जा रहे हैं. लोकसभा और विधानसभा चुनाव में भी मतगणना के समय गिनती के बाद लिखित जानकारी दी जाती है, लेकिन पंचायत चुनाव में गोपनीयता के नाम पर परिणाम से खिलवाड़ किया जा रहा है. डॉक्टर गोविंद सिंह ने मांग की है की परिणाम घोषित होने से पहले मतगणना की एक बार जांच करवाई जाए.

Letter 1

महिला उम्मीदवारों से जबरन भरवाई बांड की राशि

बता दें कि, इससे पहले विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ.गोविंद सिंह ने राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त को पत्र लिखा था. जहां राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त बीपी सिंह को पत्र लिखकर कहा कि भिंड जिले के जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा नियम के विरुद्ध सरपंच और नगरीय क्षेत्र के पार्षद प्रत्याशियों से ₹25000 जमा कराए जा रहे हैं. इसके लिए पुलिस द्वारा अनाउंसमेंट किया जा रहा है. ऐसे में जबरन प्रत्याशियों को थाने ले जाकर पैसे जमा कराने के लिए दबाव डाला जा रहा है.

चुनाव में पहली बार भरवाए जा रहे बॉन्ड

गौरतलब है कि, त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में पहली बार चुनाव आयोग के निर्देश पर प्रशासन द्वारा बांड भरवाया जा रहे हैं. यह बॉन्ड 25000 रुपए से लेकर 50000 रुपए तक भरवाए जा रहे हैं, जिससे चुनाव के दौरान इसी तरह के उत्पात की स्थिति ना हो. वहीं, राज्य निर्वाचन आयोग ने इसके लिए जिला निर्वाचन अधिकारी को निर्देशित किया था और उनके विवेक पर छोड़ा था कि वे किस उम्मीदवारों से बांड भरवाए.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.