Himachal Pradesh Assembly Election : हिमाचल प्रदेश की नाचन विधानसभा सीट पर टिकट के लिए BJP से कई दावेदार, दो बार से भाजपा के कब्जे में है यह सीट

Bjp

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर अब राजनीतिक दलों में हलचल तेज हो गई है, नेताओं के बीचचुनाव लड़ने को लेकर बयान बाजी शुरू हो चुकी है. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले की नाचन विधानसभा सीट पर वैसे तो 2012 से भाजपा विधायक विनोद कुमार का कब्जा है, लेकिन इन दिनों उनकी सीट दो और दावेदारों के चलते मुश्किल में पड़ती दिखाई दे रही है. भाजपा से लंबे समय से जुड़े डॉ ललित चंद्रकांत आईजीएमसी शिमला में प्रोफेसर के पद पर हैं. लेकिन उन्होंने अब राजनीति में उतरने का मन बना लिया है. इसके लिए उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति आवेदन भी कर दिया है. वे संघ से 22 साल से जुड़े हैं. वहीं उप महाधिवक्ता के पद पर कार्यरत कमलकांत भी संघ के प्रचारक रहे हैं और वह भी नाचन विधानसभा सीट से ही सक्रिय नजर आ रहे हैं. ऐसे में विनोद कुमार जो नाचन सीट से दो बार से विधायक हैं वे खुद के लिए खतरा महसूस करने लगे हैं.

नाचन विधानसभा सीट का समीकरण

मंडी जनपद के अंतर्गत आने वाली नाचन विधानसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी विनोद कुमार ने 2012 में पहली बार जीत दर्ज की थी. उन्होंने इस क्षेत्र में अपनी अच्छी पैठ बनाई है. इसका फायदा 2017 के विधानसभा चुनाव में मिला, दूसरी बार वे 17000 मतों से विजयी हुए. वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा को भी अपने विधानसभा सीट से 26000 मतों की बढ़त दिलाई. इस सीट पर विनोद कुमार की मजबूत पकड़ मानी जाती है.

नाचन सीट को लेकर भाजपा में उभरे मतभेद

मंडी जनपद के अंतर्गत आने वाली नाचन विधानसभा सीट को लेकर भी अब वर्तमान विधायक विनोद कुमार और दो नाम सामने आने के बाद असमंजस की स्थिति बन गई है. ऐसे में भाजपा नेतृत्व को ही तय करना है कि वह इस सीट से किसे चुनाव लड़वाती है, क्योंकि विनोद कुमार पिछले दो बार से बीजेपी विधायक हैं और दो संघ के करीबी ललित चंद्रकांत और उप महाधिवक्ता कमल कांत भी चुनाव को लेकर सक्रिय हो चुके हैं.

BJP को मिला कांग्रेस की गुटबाजी का फायदा

नाचन विधानसभा सीट में स्थानीय स्तर पर कांग्रेस पार्टी की गुटबाजी का फायदा भाजपा को मिला.कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मंडी संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव में एकजुटता का परिचय दिया. वहीं भाजपा प्रत्याशी विनोद कुमार ने जोर का झटका दे दिया. गुटबाजी के चलते ही स्थानीय विधायक विनोद कुमार पिछले दो चुनावों से जीत दर्ज कर रहे हैं. लेकिन इस बार उनकी राह मुश्किल नजर आ रही है. क्षेत्र में युवा और सामान्य वर्ग उनसे नाराज चल रहा है

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.