Delhi: CM केजरीवाल ने योग प्रशिक्षकों से जाना उनका अनुभव, पूछा- योग करने वालों की संख्या बढ़कर कैसे होगी 3 लाख?

Cm Arvind Kejriwal

देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में केजरीवाल सरकार ने दिल्लीवासियों को रोगों से बचाने के लिए योगशाला चला रखी हैं. वहीं, दिल्ली सरकार (Delhi Government) के मुताबिक, फिलहाल दिल्ली में तकरीबन 500 योग क्लासेज चलती है, जिनमें से करीब 30 हज़ार लोग रोजाना योग करते हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार की योजना है कि इस आंकड़े को और बढ़ाया जाए. इसके लिए मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने “दिल्ली की योगशाला” के सैंकड़ों योगा ट्रैनर से मिलने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने उनसे बातचीत कर उनके अनुभवों को जाना.

दरअसल, राजधानी दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कहा कि सबसे पहले इस कार्यक्रम को शुरू करते हुए हमारे मन में सवाल था कि क्य हम दिल्ली की जनता को ट्रैंड योग प्रशिक्षक दे सकते हैं ? इसी सवाल को लेकर, मुख्यमंत्री ने योगशाला को शुरू किया, आज देश में सबसे ज़्यादा लोग दिल्ली में योग करते हैं, बीते इन 9 महीने में इन योगशाला में ये योग प्रशिक्षक योग कराने के साथ साथ अपने और कौशल भी सिखा रहे हैं.

सीएम केजरीवाल ने जानें योगा ट्रेनर के अनुभव

वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की योगशाला के ट्रेनर्स से बात करते हुए योगा ट्रेनर से पूछा कि इस दौरान उनका अनुभव कैसा रहा और जाना कि लोगों को कितना फायदा हुआ. जिसमें उनकी योग क्लास में लोग बढे या घटे? एक क्लास में कितने लोग हैं और उन्हें कैसे हैंडल करते हैं ? मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री से बात करते हुए दिल्ली के अलग अलग इलाकों में योगा क्लासेज चला रहे योगा प्रशिक्षकों ने अपने अनुभव बताए.

जानिए मनीष सिसोदिया ने योगा ट्रेनर क्या ली जानकारी?

इस दौरान उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को एक योग ट्रेनर ने बताया कि वो 180 लोगों को योग कराते हैं. मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में एक क्लास में कम से कम 25 सदस्य होने चाहिए, लेकिन ये ट्रेनर एक क्लास में 180 लोगों को योग करवाते हैं, TV पर योग करने वाले इसे देखकर परेशान हो जाएंगे. वहीं, सीएम केजरीवाल ने कहा कि हमने यह तय किया था कि कम से कम 25 लोगों के साथ क्लास शुरू करनी है. ऐसे में ट्रायल बेस पर उससे कम लोगों के साथ भी योगा क्लास चलाई. हालांकि, शुरू में तकरीबन 1 लाख लोगों की मिस्ड कॉल आई, सबको अटेंड किया गया. जहां आज दिल्ली में 500 क्लास चल रही है और 30 हज़ार लोग योगा करते हैं. इस दौरान सीएम ने सभी योग ट्रेनर से पूछा कि इन 30 हजार योग करने वाले लोगों की संख्या को 3 लाख तक कैसे लेकर जाएं?

हमें योग को एक अलग मुकाम तक पहुंचना है

इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने आखिरी में योगा ट्रेनर्स को संबोधित करते हुए कहा कि आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस नहीं है. फिर भी हम योगशाला की विवेचना करने के लिए मिल रहे हैं. इसका मतलब है कि ये हमारे लिए एक दिन का बिजनेस नहीं है. ऐसे में आप लोगों से जो बातचीत हुई उसपर हम आगे भी काम करेंगे. उन्होंने कहा कि हमें इसे बहुत आगे तक लेकर जाना है. ऐसे में आप लोगों के चेहरे की खुशी को देखकर लग रहा है कि आपको भी अच्छा लग रहा है,. आप लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी नहीं हुई, वर्ना आज आपके यहां बहुत सवाल होते.

अब हमें हजारों की संख्या को लाखों में लेकर हैं जाना

इसके साथ ही अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि कुछ योगा ट्रेनर ने बताया कि दूसरी पार्टी के लोग आए और दिक्कत की लेकिन आपने अच्छे से हैंडल किया. उन्हें बताया कि हम आपकी सेहत ठीक करना चाहते हैं लड़ना नहीं है. हमें एक चिंता थी कि हम क्या इसका कोई मॉडल बना पाएंगे. ऐसे में आज वो बन गया है, दिल्ली में चल रही 500 क्लासेज को हजारों में लेकर जाएंगे. साथ ही आज की 30 हज़ार की संख्या को लाखों में लेकर जाएंगे. क्योंकि, योग बहुत अच्छी विद्या हैं, भारत ने पूरी दुनिया को सिखाया, और आप लोग भी बहुत अच्छा सिखा रहे हैं. जहां राजधानी दिल्ली एक अर्बन शहर है योग से लोगों की जिंदगी बदली. आज कोई किसी की नहीं सुनता लोगों को योग क्लास में आते हैं तो उन्हें इज्ज़त मिलती है. आज आप लोगों से बहुत कुछ सीखने को मिला.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.