बाढ पर केंद ने मांगी रिपोर्ट तो कहा इतना पानी तो मेरी भैंसिया पी जाती है, चारा घोटाले में जुनियर ने जज बन कर सुनाई सजा, जानिए लालू से जुड़े दिलचस्प किस्से

Interesting stories related to Lalu Prasad

लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) बीमार हैं. पटना के एक निजी अस्पता में उनका इलाज चर रहा है. वह राबड़ी आवास में गिर गए थे. इसके बाद उनके कमर और कंधे में काफी चोट आई है. कॉलर बोन में फ्रैक्चर हो गया है. शुगर लेवल बढ़ गया है. लालू प्रसाद के बीमार होने के बाद उनके प्रशंसक उनके स्वस्थ्य होने की दुआ मांग रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तेजस्वी यादव को फोन कर उनका हाल जाना है. लालू यादव को जानने-समझने वाले कहते हैं लालू फाइटर हैं वह उठकर खड़ा होना और दौड़ना जानता है लालू प्रसाद आज भले ही अस्पताल में भर्ती हैं और चुप हैं लेकिन वह अपने अंदाज के लिए जाने जाते हैं. अपने बोलने की विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं. लालू प्रसाद का जन्म भले ही एक साधारण परिवार में हुआ था लेकिन उनके संघर्ष ने उन्हें असाधारन बना दिया.

अपने शुरुआती जीवन के बारे में लालू प्रसाद कहते हैं मेरा जीवन बेहद मामूली ढंग से शुरू हुआ. मेरे आसपास सब कुछ इतना साधारण था कि उससे साधारण कुछ और हो ही नहीं सकता. लालू प्रसाद अपनी जिंदादिली के लिए जाने जाते हैं. उनका जीवन एक खुली किताब है. गोपालगंज के फूलवरिया गांव से लेकर रायसीना हिल तक के लालू के सफर में कई दिलचस्प किस्से हैं.

भेंसों के लिए काटते थे चारा, चारा घोटाले में गए जेल

लालू प्रसाद जब छोटे थे तब अपने गांव में अपनी उम्र के छोटे बच्चों के साथ गाय भैंसे चराया करते थे. उनके लिए चारा काट कर लाते थे. बाद में लालू प्रसाद इसी चारा घोटाला में दोषी साबित हुए और उन्हें जेल जाना पड़ा. लालू प्रसाद चारा घोटाला के पांच मामलों में सजायाफ्ता हैं..

कॉलेज के जूनियर ने सुनाई सजा

इसी चारा घोटाला से जुड़ी लालू प्रसाद की एक और दिलचस्प कहानी है. 3 अक्टूबर 2013 को लालू प्रसाद को चारा घोटाला के एक मामले में सजा सुनाने वाले सीबीआई कोर्ट के जज पीके सिंह कृलेज के दिनों में लालू प्रसाद के जूनियर थे. यब बात जज पीके सिंह ने लालू प्रसाद को खुद बताई थी और उन्हें कॉलेज के दिनों का याद ताजा कराया था.

जिस राज्य के गठन का विरोध किया वहां 5 मामलों में दोषी

2000 में जब अगल झारखंड राज्य का गठन हो रहा था तब लालू प्रसाद ने इसका पुरजोर विरोध किया. उन्होंने कहा कि झारखंड राज्य मेरी मौत के बाद ही बनेगा. उनके इस बयान के कुछ दिन बाद ही झारखंड अलग राज्य बन गया. और मजेदार बात यह है कि लालू प्रसाद उसी झारखंड राज्य में चारा घोटाला के पांच मामलों में सजायाफ्ता हैं और वहां के होटवार जेल में लंबे समय तक बंद रहे हैं.

इतना पानी तो मेरी पड़िया पी जाती है

2003 मे राबड़ी देवी के शाषनकाल में बिहार में आई बाढ़ पर जब केंद्र ने राबड़ी सरकार से रिपोर्ट तलब की तो बाढ़ के पानी पर लालू प्रसाद ने कहा- इतना पानी तो मेरी भैंसिया की पाड़ी (भैंस का बच्चा) एक बार में पी जाती है.
लालू प्रसाद अपने बयान को लेकर तब भी सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने कहा था कि वह बिहार की सड़कों को हेमा मालिनी के गालों जैसी बना देंगे. कहा जाता है कि लालू प्रसाद हेमा मालिनी के बड़े फैन हैं. उन्होंने अपनी एक बेटी का नाम हेमा रखा है.

सड़क पर उतार दिया था हेलीकॉप्टर

लालू प्रसाद ना सिर्फ अपने बयानों से बल्कि अपनी गतिविधियों से भी चर्चा में रहते थे. झारखंड में बिना अनुमति के उन्होंने सभा स्थल पर हेलीकॉप्टर उतार दिया था. तो वहीं मुजफ्फरपुर में उनकी हेलीकॉप्टर NH पर ही लैंड कर गई. हाल ही में बिना परिमिशन हेलीकॉप्टर उतारने के एक मामले में वो झारखंड के पलामू में कोर्ट में पेश हुए थे. जहां लालू प्रसाद का जवाब सुनकर जज भी हंसे बिना नहीं रह सके. कोर्ट में लालू ने कहा हुजूर मैं बेकसूर हूं हेलीकॉप्टर तो पायलट उड़ा रहा था. पायलट की गलती के कारण हेलीकॉप्टर निर्धारित जगह नहीं उतरा, इसमें मेरा कोई कसूर नहीं है.

रिक्शा से पहुंचे थे राजभवन

लालू प्रसाद अपने रिक्शा शौक के लिए भी जाने जाते हैं. वह कई बार हेलीकॉप्टर से उतरकर रिक्शा से सभा स्थल जाते थे. एकबार वह राजभवन भी रिक्शा से पहुंच गए थे. लालू प्रसाद दावा करते हैं छात्र जीवन में उन्होंने पेट भरने के लिए पटना में रिक्शा भी चलाया था.

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.