आस्था पर सीरियल आक्रमण कब तक?

Leena Manimekalai

डायरेक्टर लीना मणिमेकलाई ने सोशल मीडिया पर एक और विवादित पोस्ट डालकर हिंदु देवी देवताओं का फिर से अपमान किया है. लीना के इस बार के पोस्ट में शिव-पार्वती सिगरेट पीते नजर आ रहे हैं. लीना इसे आर्टिस्टिक आजादी का नाम दे रही हैं लेकिन एक धर्म विशेष के अराध्य को बार बार अपमानित कर वो उदारवाद का नहीं बल्कि आपराधिक प्रवृति का परिचय दे रही हैं.

हिंदु विरोधी सोच को अभिव्यक्ति की आजादी का नाम देना अनुचित ?

लीना के पोस्ट एक धर्म विशेष के खिलाफ ही नहीं बल्कि देश के खिलाफ भी है, जिसे वो हेट मशीन के नाम से पुकार रही हैं. लीना द्वारा असुरक्षित महसूस करने की बात करना छलावा ही नहीं बल्कि कोरा बकवास है, जिससे वो सस्ती लोकप्रियता हासिल कर उदारवाद का भौंडा खेल खेल रही हैं. लीना वाकई असुरक्षित महसूस करती तो चंद दिनों में वो दूसरी बार हिंदु देवी देवताओं के अपमान करने की हिमाकत नहीं जुटा पातीं. लीना जब ट्रोल होने लगी तो आर्टिस्टिक आजादी का हवाला देकर वो उदारवाद चेहरा पेश करने की फिराक में हैं. लेकिन एक समुदाय के धैर्य का इम्तिहान लीना मां काली के एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे हाथ में LGBTQ का झंडा भी दिखाकर आर्टिस्टिक आजादी के नाम पर लेना चाह रही हैं जो भारत के लोगों को नागवार गुजरी है.

खबर अपडेट की जा रही है..

Admission.com
www.lyricsmoment.com
admission9.com
lyricsmoment.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.